क्या मैं आपके लिए हूं??

आजकल प्यार होने में ज्यादा देर नहीं लगती। तो जाहिर है आई लव यू कहने में भी ज्यादा देर नहीं लगाते होंगे। कई बार आप किसी से प्यार तो करते हैं लेकिन इस बात से अनजान होते हैं कि वाकई आप उससे प्यार करते हैं या फिर नहीं। आपको समझ नहीं आता कि आपके साथ जो हो रहा है कि वो क्या है। लेकिन आपको किसी के प्यार में पड़ने से पहले कुछ बातों का खासतौर पर ख्याल रखना चाहिए। किसी के साथ रिलेशनशिप में आने से पहले ये पांच सवाल खुद से पूछें….

क्या वो आपके लायक है? – आपको रिलेशन बनाने से पहले उस व्यक्ति को जानना चाहिए कि आप जिसे प्रपोज करने वाले हैं क्या वाकई वो आपके लायक है। क्या वह आपको वो सम्मान और प्यार दे पाएगा जिसकी उम्मीद आप करते हैं। आपके प्यार में पड़ने से पहले अपने पार्टनर की खूबियों, अपनी और उसकी समानताओं और अंतर का भी ध्यान रखना चाहिए। इससे आपको रिश्ते को आगे बढ़ाने में मदद मिलेगी।

क्या आप वाकई उसे चाहते हैं? – सबसे पहले आपको अपने प्यार को प्रपोज करने से पहले इस बात को अच्छी तरह से समझ लेना चाहिए कि आप वाकई उसको चाहने लगे हैं। किसी से रिलेशन में बंधने से पहले जाने लें कि वाकई आपको उसकी जरूरत है। आमतौर पर रिश्ते जरूरत पर ही बनते हैं। आपको अपने आपसे पूछना चाहिए कि आप नया रिश्ता क्यों बनाना चाहते हैं।
क्या मैं ये जिम्मेदारियां निभा सकूंगा? – आपके प्यार में पड़ने का कारण कोई भी हो सकता है। लेकिन आपको चाहिए कि आप पहले खुद क्लियर हो। साथ ही आपको यह भी ध्यान रखना चाहिए यदि आप अपने प्यार के रिश्ते को आगे तक ले जाएंगे तो कहां तक। आपको प्यार में पड़ने से पहले अपने बारे में पता होना चाहिए कि क्या आप इस रिश्ते के काबिल हैं। आपको जानना चाहिए कि क्या आप वो जिम्मदारियां निभा पाएंगे जो प्यार में पड़ने के बाद निभाई जाती हैं।

क्या वो भी मुझे इतनी ही अहमियत देता है? – आपको यह भी तय कर लेना चाहिए कि आप अपने साथी के बारे में जैसा महसूस कर रहे हैं क्या वह भी आपको उतनी ही अहमियत देता है। किसी के प्यार में पड़ने से पहले या किसी को प्रपोज करने से पहले आपको अपनी क्षमताओं का भी ध्यान रखना है। ऐसे में नया रिलेशन बनाते हुए आपको पहले भावनात्मक रूप से जुड़ना बहुत जरूरी है। यदि आप अपने प्यार को आगे की ओर ले जाना चाहते हैं तो आपको सुनिश्चित कर लेना चाहिए कि आपका निर्णय सही है या नहीं। इस तरह से आप आसानी से जान सकते हैं कि क्या आप वाकई नए संबंध बनाने के लिए तैयार हैं। आमतौर पर किसी भी व्यक्ति के बारे में जरूरत से ज्यादा ख्यालात आने या उसकी हर छोटी-बड़ी बात अच्छी लगने का अर्थ है कि आप उसे पसंद करने लगे हैं। ऐसे में आप जल्दबाजी में कोई फैसला ना लें बल्कि अच्छी तरह से सोच-विचार कर लें।

ब्लड प्रेशर ज्यादा रहता है तो आजमाएं ये जबरदस्त नुस्खा

अगर आपको हाई ब्लड प्रेशर की वजह से अक्सर चक्कर आते हैं या सिर में असहनीय दर्द रहता है। जिससे राहत पाने के लिए आप या तो डॉक्टर की दुकान के चक्कर लगाते हैं या किसी पेन किलर का सहारा लेते हैं। तो अब घबराने की जरूरत नहीं है। एक आसान सा नुस्खा अपनाकर आप इस परेशानी से हमेशा के लिए बिना कोई दवाई खाए छुटकारा पा सकते हैं। बड़ी इलायची में कई औषधीय गुण होने की वजह से ये सांस से जुड़ी कई बीमारियां जैसे अस्थमा, फेफड़े में संकुचन आदि के साथ ब्लड प्रेशर की दिक्कत को भी दूर करती है। देखिए कैसे इसकी मदद से ब्लड प्रेशर को ठीक किया जा सकता है। 200 ग्राम बड़ी इलायची लेकर तवे पर भून लें। इलायची को इतना भूने कि जल कर उसकी राख हो जाए। इलायची की इस राख को पीस कर एक डिब्बे में भरकर अपने पास रख लें। इसके बाद रोज सुबह और शाम खाली पेट खाना खाने से 1 घंटा पहले 5 ग्राम इलायची की राख को 2 चम्मच शहद के साथ मिलाकर खाएं। लगातार 15 से 20 दिन तक इस नुस्खें को आजमाने से आपको किसी भी बीपी की किसी दवा की जरूरत नही पड़ेगी। इस उपाय के अलावा अगर आपके मुंह से दुर्गंध आती हो तो बड़ी इलायची चबाकर आप इस परेशानी से भी निजात पा सकते हैं। इतना ही नहीं मुंह के घावों को ठीक करने के लिए भी बड़ी इलायची का इस्तेमाल किया जाता है।

सिक्स पैक्स एब्स बनाने के लिए आजमाएं ये आसान एक्सरसाइज

यदि आप भी अपना मोटापा घटाकर सिक्स पैक बनाने की फिराक में हैं तो थोड़ी मशक्कत करें। हम आपको ऐसी कुछ असरदार एक्सरसाइज की जानकारी दे रहे हैं जिसे अगर आप अपने शेड्यूल में शामिल करेंगे तो सिक्स पैक्स एब्स बनाना आपके लिए मुश्किल नहीं होगा।

साइकिलिंग – एब्स बनाने के लिए सबसे आसान एक्सरसाइज है साइकिलिंग। जरूरी नहीं कि इसके लिए आप साइकिल पर ही साइकिलिंग करें, बिना साइकिल के भी साइकिलिंग के मूवमेंट आपके लिए उतने ही प्रभावी हो सकते हैं।
मैट पर पीठ के बल लेट जाएं और हाथों की मदद से अपने सिर को ऊपर उठाएं।
घुटने को छाती से लगाएं और फिर पैरों से साइकिल का पैडल चलाने की कोशिश करें।
पहले बाएं पैर से और फिर दाएं पैर से।
12 से 16 बार का एक सेट बनाएं और एक से तीन बार इसे दोहराएं।

वर्टिकल लेग क्रंच – वर्टिकल लेग क्रंच शरीर को लचीला बनाने के साथ-साथ एब्स बनाने में मददगार है।
मैट पर पीठ के बल लेट जाएं और पैरों को ऊपर उठाएं जिससे शरीर 90 डिग्री के कोण में हो।
हाथों को सिर के पीछे क्रॉस करके सपोर्ट दें।
अब सीने से पैर छूने का प्रयास करें।
इसे 12 से 16 बार अधिकतम तीन सेट्स में करें।

हील क्रंच – हील क्रंच पारंपरिक क्रंच जैसा ही दिखता है लेकिन उससे ज्यादा प्रभावी है।
पीठ के बल लेट जाएं और पैरों को मोड़ लें, याद रहे कि आपके तलवे जमीन से छूने चाहिए।
दोनों हाथों को क्रॉस करके सिर के नीचे लाएं।
शरीर के निचले हिस्से का भाग एड़ियों पर दें और पंजे उठा लें।
शरीर के ऊपरी हिस्से को उठाने की कोशिश करें।
12 से 16 बार करें। एक से तीन सेट्स कर सकते हैं।
प्लैंक एक्सरसाइज – प्लैंक एक्सरसाइज से एब्स बनाने के अलावा मांसपेशियों को भी मजबूत बना सकते हैं। यह कमर के लिए भी अच्छी एक्ससाइज है।
पेट के बल मैट पर लेट जाएं।
माथे को जमीन से छूने दें।
अब शरीर के ऊपरी हिस्से का भाग कोहनी पर देते हुए कोहनी को जमीन से टिकाएं।
पैरों को पंजों पर टिकाएं।
अब अपने पेट व जांघों को ऊपर की ओर उठाने की कोशिश करें।
20 से 30 सेकेंड रुकें और सामान्य हो जाएं, इसे दो से तीन बार करें।

खादी में भी है स्टाइल

बदलते मौसम में कपड़ों के लिए फैब्रिक चुनना जरा मुश्किल लगता है पर खादी ऐसा मैटेरियल है जो आप हर मौसम में बिंदास पहन सकते हैं। खास तौर से गर्मियों हर कोई ऐसे कपड़े पहनना चाहता है, जो कंफर्टेबल होने के साथ-साथ स्टाइलिश भी हों। अगर आप भी अपने लिए कंफर्ट और स्टाइल की तलाश कर रही हैं तो खादी से बेहतर विकल्प क्या हो सकता है।
खादी है डिमांड में – फैशन के रोजाना बदलते ट्रेंड में खादी फैब्रिक्स की खासी डिमांड है। इसमें पैच, कांथा, फुलकारी वर्क और ब्लॉक प्रिंटिंग जैसे कई वरायटीज वाले आउटफिट्स इन दिनों ट्रेंड में हैं। प्रिंट्स और डिजाइंस से अलग प्लेन खादी ड्रेस भी यूनीक लुक देती है। इस फैब्रिक से बने नेहरू जैकेट्स यंगस्टर्स के बीच खासे पसंद किए जाते हैं। साड़ी और सलवार-सूट्स से अलग अब शर्ट, पैंट और स्कर्ट्स में भी कई तरह के कट्स और पैर्टंस में आउटफिट्स देखे जा सकते हैं।

मार्डन ड्रेस में भी जंचती है – अलग अंदाज और स्टाइल में नजर आने के लिए स्पेगेटी टॉप को स्कर्ट या लुक पैंट्स के साथ पहना जा सकता है। खादी के क्रॉप टॉप और रैप-अराउंड स्कर्ट का कॉम्बो बेहद आकर्षक लगता है।
खास है खादी की साड़ी – खादी की हाथ से बनी साड़ी को बेहद पसंद किया जाता है। ये विभिन्न रंगों और स्टाइल में मिलती हैं। मॉडर्न लुक के लिए जरदोंजी की कढ़ाई और ब्लॉक प्रिंट वाली साड़ी चुनें। रंगीन प्लेन साड़ी को कढ़ाईदार शर्ट ब्लाउज के साथ भी पहन सकती हैं, जो आपको एकदम नया लुक देगी।

खादी के कुर्ते देते हैं सोबर लुक – गर्मियों के मौसम में सहज महसूस करना चाहती हैं तो खादी के कुर्ते या शॉर्ट ड्रेस पहन सकती हैं। गले पर बढिय़ा कढ़ाई वाली कुर्ती के साथ कुछ आभूषण भी पहन सकती हैं, जिससे आपके लुक में चार-चांद लग जाएंगे। ये भी आजमायें। चटख रंग के स्कार्फ या दुपट्टे को प्लेन ड्रेस के साथ पहन सकती हैं। दुपट्टे को हलके रंग की कुर्ती के ऊपर पहनें, जिससे आप निश्चित रूप से भीड़ से अलग नजर आएंगी। खादी के शॉर्ट पैंट या श्रग भी पहन सकती हैं। शॉर्ट्स पर श्रग आपको बेहद स्मार्ट लुक देगा।

सही हेयर कट आपकी पर्सनैलिटी को दे स्टाइलिश लुक

स्टाइलिश अंदाज – रोज़-रोज़ नया हेयर स्टाइल बनाना शायद मुश्किल लगे पर सही हेयर कट को चुनकर आप अपनी पर्सनैलिटी को डिफरेंट लुक दे सकते हैं। अगर आप वर्किंग हैं तो आपको ऐसा हेयर कट करवाना चाहिए, जिसकी देखभाल आप खुद कर सकें। मसलन अगर लंबे बालों के साथ आप कई लेयर कट रखना चाहती हैं तो आपके लिए हर समय बाल खुले रख पाना संभव नहीं है। ऐसे में आपको फ्रंट कट और स्ट्रेट बाल रखने चाहिए, जिन्हें आप ज़रूरत पडऩे पर बांध भी सकें। चेहरा अगर हार्ट शेप का है तो इस पर फ्रेमिंग लेयर्स हेयर कट खूब फबेगा। ऐसे चेहरे पर फोरहेड और चीक्स काफी ब्रॉड होता है। ऐसे में बालों की कुछ लेयर्स चीक्स पर आएंगी तो चेहरे को छोटा दिखाया जा सकता है। बाल लंबे हैं तो लेयर्ड वेव्स करवाएं, वहीं छोटे बालों के लिए बाउंसी बॉब कट फबेगा। ओवल फेसकट के लिए आप शॉर्ट या लॉन्ग लेंथ दोनों ही रख सकती हैं। वर्किंग हैं तो ब्लंट कट कराने के बजाय लेयर या थ्री लेयर कराएं। बाल अगर हलके हैं तो ब्लंट कट करवाने से बचना चाहिए। राउंड फेस पर थ्री स्टेप कटिंग ही करवाएं। इसकी लेयर्स की लेंथ चिन तक ही करवाएं। फ्रंट से छोटा न करवाएं।
साइड लेयर कट – किसी भी प्रकार के बालों और फेसकट के लिए यह साइड लेयर कट अच्छा लगता है। कर्ली और वेवी बालों पर भी यह स्टाइल जचता है। इसके लिए बालों को वेट ड्रायर से सेट करें। ध्यान रखें, बालों को उसी ओर सेट करें, जो आप पर सूट करता हो। साइड लेयरिंग फेस को यंग लुक देने के साथ ही मॉडर्न भी बनाती है। बालों पर कलर हो तो लेयरिंग स्टाइल काफी स्टाइलिश लुक देगी। बालों की पोनी बनाकर क्लिप से इनको एक अलग अंदाज़ दिया जा सकता है।
शैग कट – बालों को शॉर्ट के साथ हेवी दिखाना चाहते हैं तो शैग हेयर कट करवाएं। इनमें कुछ बाल फोरहेड पर आते हैं, जिससे बालों को वॉल्यूम मिलता है। अगर बाल हलके हों तो इस कट को आज़माकर देखें।

जब आने वाला हो नन्हा मेहमान

प्रेग्नेंसी का पता चलने के बाद अक्सर महिलाएं कुछ बातों की कम जानकारी होने की वजह से ऐसे कदम उठा लेती हैं, जो आगे चलकर डिलिवरी के दौरान मुश्किल पैदा कर सकते हैं। कुछ एहतियात बरतकर इन कठिनाइयों से बचा जा सकता है। प्रेग्नेंसी एक ऐसा वक्त होता है, जो हर महिला के लिए बहुत खुशियां लेकर आता है, लेकिन स्वास्थ्य के लिए यह थोड़ा क्रिटिकल टाइम होता है। अब आप पर एक और जान की जिम्मेदारी बढ़ जाती है। ऐसे में कुछ बातों का खास ध्यान रखकर इस दौरान आने वाली परेशानियों से बचा जा सकता है।
एकदम न बढ़ाएं डाइटः- अक्सर प्रेग्नेंसी की खबर मिलते ही घरवाले महिला की अधिक केयर करने लगते हैं। ऐसा करना ठीक है, लेकिन कुछ बातों को ध्यान रखने की जरूरत होती है। प्रेग्नेंसी के शुरुआती तीन महीनों में महिलाओं को जी-मचलाना, उल्टी, बदहजमी और गैस जैसी शिकायतें आम होती हैं। इसलिए इन महीनों के दौरान खाने की मात्रा को बढ़ाने की जरूरत नहीं होती। इसके स्थान पर डाइट में प्रोटीन, विटामिन और मिनरल वाले हल्के खाने को शामिल करना चाहिए।
नाश्ते को न करें दरकिनारः- प्रेग्नेंसी के शुरुआती दौर में अक्सर महिलाएं ऑफिस या घर के कामकाज में सामान्य तौर पर लगी रहती हैं। इसमें कोई बुराई नहीं है, लेकिन प्रेग्नेंसी का पता चलने के बाद नाश्ते को बिल्कुल अवॉइड नहीं करना चाहिए। पोषक तत्वों से भरपूर नाश्ता लेने के बाद यदि महिलाओं को दिन के आहार में थोड़ा कम पोषण मिले, तो यह होने वाले बच्चे की सेहत पर ज्यादा असर नहीं डालता। इसके साथ ही सुबह के समय थोड़ा-बहुत खाने से दिनभर गैस और एसिडिटी की परेशानी का सामना नहीं करना पड़ता।
लालच पर नियंत्रण रखेंः- महिलाओं में चटपटा खाने की आदत पुरुषों के मुकाबले ज्यादा होती है। यह आदत प्रेग्नेंसी के दौरान और अधिक बढ़ जाती है। ऐसे में महिलाएं चुपचाप चाट, पानीपुरी, भेल जैसी चीजें खाने की कोशिश करती हैं। ये चीजें आने वाले नन्हे मेहमान की सेहत पर बुरा असर डाल सकती हैं। प्रेग्नेंसी के दौरान ज्यादा मसालेदार और चटपटी चीजों का सेवन करने से महिलाओं को कई तरह की परेशानी हो सकती है।
कभी न भूलें एक्सरसाइज करनाः- प्रेग्नेंट महिलाओं को अपने खानपान के साथ ही फिजिकल फिटनेस की तरफ भी विशेष ध्यान देना चाहिए। एक बार प्रेग्नेंसी का पता चल जाने के बाद नियमित एक्सरसाइज करना बहुत जरूरी होता है। इससे बॉडी आने वाले मेहमान को संभालने के लिए तैयार हो जाती है। एक्सरसाइज के साथ हल्का योग और प्राणायाम भी लाभकारी होगा। दिन में कम से कम आधा घंटा एक्सरसाइज जरूर करनी चाहिए।

लड़कियों को पसंद आते है दाढ़ी वाले लोग

आप यह जानकर हैरान रह जाएंगे कि ज्यादातर लड़कियों को दाड़ी वाले पुरुष ही आकर्षित करते हैं। यह तो सही है कि दाड़ी को रखना अपने आपमें मेहनत का काम है, क्योंकि इसकी देखभाल और साफ-सफाई में बहुत समय देना होता है। अब सोचने वाली बात है कि आलसी कहे जाने वाले पुरुष भी दाड़ी कैसे रख लेते हैं और ऐसा शौक क्यों पालते हैं। दरअसल हाल में हुआ एक रिसर्च के परिणाम बताते हैं कि बड़ी हुई दाढ़ी वाले पुरुष लड़कियों को खूब भाते हैं। रिसर्च बताता है कि अधिकांश लड़कियां जीवनसाथी के तौर पर बड़ी दाढ़ी वाले पुरुषों को ही पसंद करती हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि चेहरा रौबदार और सीधे निर्णय लेने की स्थिति वाला प्रतीत होता है। इसलिए सलाह देने वाले तो यहां तक कहते हैं कि यदि आप लड़कियों से अपना संबंध लंबे समय तक रखना चाहते हैं तो दाढ़ी बढ़ा लिजिए, आपकी मुराद पूरी हो जाएगी। यह दावा रिसर्च करने वाले वैज्ञानिकों ने किया है। इसलिए इसमें गंभीरता नजर आती है। वैज्ञानिकों की मानें तो महिलाएं जीवन भर साथ निभाने के लिए ही दाढ़ी वाले पुरुषों को चुनती हैं। क्या आप भी ऐसा ही सोचती हैं, अगर हां तो जानना जरुरी है कि आखिर ये मर्द दाढ़ी क्यों रखते हैं। ऐसा तो नहीं कि रोज-रोज दाढ़ी साफ करने की झंझट से बचने के कारण उन्होंने दाढ़ी बढ़ा ली हो। अतः ऐसा करने वाले पुरुष आपकी सोच पर खरे नहीं उतर सकते हैं। जबकि शोध बताता है कि पुरुषत्व और दाढ़ी के बीच में गहरा संबंध है। इस अध्ययन में बताया गया है कि रिलेशनशिप के लिहाज से देखा जाए तो काफी ज्यादा मैस्क्युलिन और काफी ज्यादा फेमेनाइन दिखने वाले पुरुष कम आकर्षक होते हैं। बताते चलें कि महिलाओं को बड़ी दाढ़ी वाले पुरुष क्लीन सेव पुरुषों की तुलना में ज्यादा स्ट्रॉन्ग लगते हैं। उन्हें दाढ़ी वाले पुरुष मैच्योर लगते हैं। दाढ़ी से किशोरवय और पुरुषों में अंतर पता चल जाता है। कुछ महिलाएं तो यहां तक कहती हैं कि दाढ़ी में पुरुष ज्यादा सेक्सी और हॉट लगते हैं। अब यदि आप दाढ़ी वाले पुरुष में ये सब पाती हैं तो यह शोध को प्रमाणित करने जैसा होगा, वर्ना अपनी-अपनी सोच वाली बात ही चरितार्थ होती है।

पांच मिनट में संवारे कर्ली हेयर

कर्ली हेयर एक ऐसा हेयरस्टाइल है जो कभी भी फैशन से बाहर नहीं होता है। कुछ के बाल तो प्राकृतिक रूप से कर्ली होते हैं, वहीं कुछ लोग ऐसे बाल पाने के लिए खासतौर पर प्रयास करते हैं। जो भी हो, पर आपको कर्ली हेयर की देखभाल के बारे में पता होना चाहिए। सीधे बाल के उलट कर्ली हेयर को शानदार दिखाने के लिए कुछ अतिरिक्त प्रयास करने होते हैं। अगर आप अपने कर्ली हेयर पर इतराते हैं तो निश्चित रूप से आप इसकी देखभाल के तरीके जानना चाहेंगे। आप यह जान लीजिए के कर्ली हेयर का रखरखाव सीधे बालों जितना आसान नहीं है। हालांकि ऐसे कई टिप्स हैं जिसे अपना कर आप न सिर्फ कर्ली हेयर का अच्छे से रखरखाव कर सकते हैं बल्कि इसे और बेहतर भी बना सकते हैं। तो आइए जानते हैं कुछ टिप्स जिनकी सहायता से आप अपने कर्ली हेयर को एक नयी स्टाइल प्रदान कर सकते हैं।
तेल लगानाः- कर्ली हेयर को ज्यादा तेल लगाने की जरूरत होती है, क्योंकि सीधे बालों की तुलना में इसमें रूखापन ज्यादा होता है। ऐसा इसलिए है कि बाल मुड़े होने से स्किन आयल बालों के सिरे तक नहीं पहुंचता है। रूखा बाल ज्यादा कमजोर होता है और ज्यादा टूटता है। आप जैतून का तेल, नारियल का तेल, बादाम का तेल और दूसरे नेचुरल हेयर आयल का इस्तेमाल कर सकते हैं।
हेयर पैकः- कर्ली हेयर की देखभाल में कई तरह के हेयर पैक भी आपकी मदद कर सकते हैं। मेयोनेज, अंडा, दूध, दही, शहद और नींबू कुछ ऐसे हेयर पैक हैं जो असरदार होने के साथ साथ प्राकृतिक भी हैं।
शैंपू करनाः- बालों में शैंपू करें, क्योंकि बाल में कई सारे ट्विस्ट और टर्न होने से बालों के छल्ले में गंदगी की संभावना काफी बढ़ जाती है। इससे बाल भद्दे भी नजर आने लगते हैं। आपने बालों को साफ करने के लिए आप नेचुरल मेथड भी अपना सकते हैं।
कंडीशनिंगः- कर्ली हेयर की देखभाल में कंडीशनिंग बेहद जरूरी है। आप चाहें तो कंडीशनर बाजार से खरीद सकते हैं या फिर इसे घर पर बना सकते हैं। शहद, अंडा, सेब, सिरका और चाय कुछ बेहतरीन प्राकृतिक कंडीशनर हैं।
कंघी करनाः- कर्ली बालों के लिए कंघी का चुनाव करते समय सावधानी बरतें। चौड़े दांत वाली कंघी का चुनाव करें क्योंकि यह आपके बालों के छल्ले में फंसेगी नहीं। पतले दांत वाली कंघी कर्ली हेयर पर आसानी से नहीं चलेगी। साथ ही इससे बालों को नुकसान भी पहुंचेगा।

कैसे बनाएं रखे आंखों की खूबसूरती

सुंदर और स्वस्थ आंखे चेहरे का आकर्षण बढ़ा देती है। अगर आपकी आंखों की बनावट सुंदर और आकर्षण है तो आप बहुत भाग्यशाली हैं। लेकिन अगर किसी की आंखे प्राकृतिक रूप से सुंदर नहीं हैं तो भी परेशान होने की जरूरत नहीं है। उचित देखभाल और सही मेकअप के जरिये उन्हें भी आकर्षण बनाया जा सकता है।
आइए हम आपको बताते है कि आज की जीवनशैली में आखों की देखभाल कैसे करेंः-

  •  पेट की बीमारी से भी आंखों की समस्या पैदा हो सकती है। इसके लिए सुबह-सुबह एक ग्लास गर्म पानी में एक नींबू का रस निचोड़कर पीने से पेट साफ रहता है।
  •  हफ्ते में एक दिन आंखों पर ठंडे पानी में टी बैग को डुबोकर आंखो पर 10-15 मिनट तक रखें। इसके अलावा खीरे के पतले गोल टुकड़े करके फ्रिज में आधे घंटे के लिए रख दें, फिर लेट कर आंखो पर एक टुकड़ा रखकर बीस मिनट तक आंखे बंद करके आराम करें। ऐसा करने से आंखों का बहुत आराम मिलेगा और आप तरोताजा महसूस करेंगी। इससे आंखों में चमक भी आने लगेगी।
  • आंखो को स्वस्थ और सुंदर बनाने के लिए पर्याप्त नींद लेना बहुत जरूरी है।
  •  थकी हुई और लाल आंखो को ताजगी प्रदान करने के लिए खीरे के गोल टुकड़े काटकर आंखों पर दस मिनट तक रखें, फिर गुलाबजल में रूई भिगोकर आंखो पर लगाएं। एक मिनट बाद ठंडे पानी से छीटें मारकर साफ करें।
  •  आंखो के नीचे काले घेरे हों तो एक कच्चे आलू को कसकट काले घरों पर लगाएं। आधे घंटे के बाद ठंडे पानी से आंखे धो ले और मायस्चराइजर लगा लें।
  •  रात में सोने से पहले आंखों के नीचे अंडर आई क्रीम या जेल लगाकर सोएं।
  •  धूप में बाहर जाना हो तो सनग्लासेज लगाएं और सनब्लाक लगाना न भूलें।
  •  डाइटीशियन कहते हैं कि आंखो की सेहत के लिए आपका आहार भी बहुत महत्वपूर्ण है। अपने आहार में विटमिन ‘ए’ प्रचुर मात्रा में ले। यह दूध और दूध से बने पदार्थो, मछली, अंडे, पीले फलों और सब्जियों, गाजर, पालक, आडू और पपीते आदि में पाया जाता है।
  •  अगर आंखो के आसपास झुर्रियां नजर आने लगी है तो प्रतिदिन सैलेड और हरी सब्जियों में एक टी स्पून वेजटेबल ऑयल डालकर खाएं।
  •  आंखों पर एंटी रिंकल क्रीम लगाएं। इसके लिए कैस्टर ऑयल, ऑलिव ऑयल और पेट्रोलियम जेली को बराबर मात्रा में अच्छी तरह मिलाकर एक जार में अच्छी तरह मिलाकर एक जार में रख लें। इसे रोजाना आंखों पर और उसके आसपास लगाकर हल्की मालिश करें।
  •  पानी में एक चुटकी बोरिक एसिड़ मिलाकर उबालें। ठंडा करके इस पानी से आंखों को धोएं, ऐसा करने से आंखों को आराम व ठंडक मिलेगी।
  •  अगर आपकी आंखों में जलन होती हो तो एक टी स्पून उबले पानी में दो टेबल स्पून गुलाबजल मिलाएं। इससे आंखे साफ करें।
    आंखों के लिए एक्सरसाइज भी है बेहद जरूरी
  •  फिटनेस एक्सपर्ट के मुताबिक आंखों को आराम देने और सुंदर बनाने के लिए नियमित एक्सरसाइज भी जरूरी है। इसके लिए एक शांत कमरे में लाइट बंद करके दोनों हाथों को आंखों पर रखें, पांच मिनट तक आंखें बंद करें, फिर आंखें खोलकर फैलाएं और अंधेरे में देखने की कोशिश करें। आंखों को आराम मिलेगा।
  •  अगर आपकी आंखे कमजोर हैं और आप चश्मा लगाती हैं तो काम के हर एक घंटे बाद चश्मा उतार कर आंखे कर आंखे बंद करके पांच मिनट के लिए उन्हें आराम दें।
  •  आराम की मुद्रा में बैठ जाएं। अपनी आंखों को गोलाइ्र में घुमाएं। पहले एक दिशा में फिर दूसरी दिशा में घुमाएं।
  •  अपनी चार उंगलियों को आंखों के सामने लांए फिर धीरे-धीरे दूर ले जाएं। यह प्रक्रिया कम से कम पांच बार दोहराएं।
  •  आप जब भी बाहर जाएं तो पेड़-पौधों को ध्यान से देखते रहें। हरियाली या हरा रंग आंखों को बहुत सुकून देता हैं।
    कैसा करें आंखों का मेकअपः- सौंदर्य विशेषज्ञ कहते हैं कि आंखों के मेकअप के लिए एक महत्वपूर्ण बात यह है कि भौहें सही आकार में बनी होनी चाहिए। भौहें बनाने का सबसे सही समय नहाने के बाद होता है। भौहें सही आकार में और साफ-सुथरी न हों तो आई मेकअप बहुत खराब लगता है। भौहें नेचुरल रखें। ‘सी’ आकार वाली बौर बेहद पतली भौहें चलन से बाहर हैं। जो बाल आकार से बाहर हों, बस उन्हीं फालतू बालों को हटवाएं। चेहरे पर बेस लगाने के बाद सबसे पहले आंखों का मेकअप किया जाना चाहिए।
  •  आईशैड़ो से शुरूआत करें- आजकल लाइट शिमरी कलर्स चलन में हैं। पलकों पर पहले अपने कपड़े और त्वचा के रंग से मेल खाता हुआ आईशैड़ो ब्रश की सहायता से लगाएं। फिर थोड़ा हाइलाइटर आइशैडो में मिलाएं। इसके बाद आइलैशेज को कर्ल करें। वाल्यूमाइजिंग या ट्रांस्पेरेंट मस्कारा के दो कोट लगाएं।
  •  सबसे अंत में आइलाइनर से आंखों को खूबसूरत आकार दें। आंखों का मेकअप करने के बाद अपनी आइब्रोज को कोंब करें। अंत में आईब्रो पेंसिल से उन्हें हल्का गहरा करें।
  •  रात में आंखों का मेकअप उतारना न भूलें। अगर आप कृतिम बरौनियां लगाती हों तो सबसे पहले उन्हें हटाएं। फिर क्लींजिंग जेल और गीली रूई की सहायता से आईलाइनर और आइशैड़ो हटाएं।
  •  आंखे बंद करके गीली रूई से भीतरी कोने से बाहरी कोने तक हल्के से पोंछे। ध्यान रखें त्वचा पर खरोंच न आए।
डैंड्रफ जब समस्या बनने लगे

डैंड्रफ यानी रूसी की एक सामान्य मात्रा हर एक के बालों में होती है। लेकिन अगर डैंड्रफ इतना बढ़ जाए कि कंघी और कपड़ों पर गिरने लगे तो समस्या विकट हो जाती है। डैंड्रफ सिर की त्वचा की मृत कोशिकाएं होती हैं, जो लगातार बनती रहती है। अगर बालों की देखभाल तरीके से न की जाए तो डैंड्रफ की समस्या बढ़ने लगती है। नेचर्स एसेंस् की सुप्रसिद्ध सौंदर्य विशेषज्ञ सुनीता अरोड़ा, डैंड्रफ की समस्याओं पर कुछ उपयोगी सुझाव दे रही हैं।
ऽ डैंड्रफ का असर :- डैंड्रफ बालों की जड़ों को कमजोर करता है, फलतः बाल तेजी से झड़ने लगते हैं। डैंड्रफ सिर की त्वचा की सतह पर चिपक जाता हैं, जिससे जड़ों की ओर हवा का प्रवाह बाधित होता है। परिणामस्वरूप, बालों की जड़े कमजोर और बालों पर इनकी पकड़ ढीली पडती है।

  •  डैंड्रफ का कारण :- इस क्षेत्र में अध्ययनों से कुछ बात सामने आई है जैसे कि पचास फीसदी से अधिक युवा इस समस्या से कभी ना कभी पीड़ित रहते हैं। यह माना जाता है कि सिर की त्वचा पर हुआ फंगल इनफेक्शन भी डैंड्रफ का कारण हो सकता है। इस समस्या के उपजने का एक बहुत बड़ा कारण उपापचय प्रक्रिया में गड़बड़ी होना भी है। सिर की त्वचा में नई कोशिकाएं लगातार बनती रहती है और उसी अनुपात में मृत कोशिकाएं भी तैयार होती रहती है। उपापचय प्रक्रिया में असंतुलन पैदा होने पर नई कोशिकाएं तेजी से बनने लगती हैं, जिसके कारण मृत कोशिकाएं यानी डैंड्रफ तेजी से बनने लगते हैं। उपापचय प्रक्रिया में असंतुलन के निम्न कारण हो सकते है-
  •  ड्रग्स
  •  भवानात्मक तनाव
  •  युवावस्था के शारीरिक बदलाव
  •  मौसम या खानपान में अचानक आया परिवर्तन
    क्या आपको वास्तव में डैंड्रफ की समस्या है?
    डैंड्रफ का उपचार करने से पहले ये सुनिश्चित कर लें कि आपके बालों से वाकई डैंड्रफ है भी या नहीं। क्योंकि कभी-कभी सिर की त्वचा पर डैंड्रफ नुमा छोटे-छोटे कण तेज धूप या हेयर ड्रायर के अत्यधिक इस्तेमाल से भी हो जाते है। बालों में साबुन या आसानी से न साफ होने वाले शैंपू के इस्तेमाल से भी ऐसा हो जाता है।
     आपका कंघा ब्रश और डैंड्रफ
    कभी भी डैंड्रफ से पीड़ित व्यक्ति का इस्तेमाल किया हुआ कंघा या ब्रश इस्तेमाल न करें। इससे आप भी डैंड्रफ की चपेट में आ सकते है। हर बार शैंपू करने के बाद अपने कंघे और ब्रश को अच्छी तरह साफ करना न भूलें। डैंड्रफ से बचाव के लिए बालों पर ब्रश का इस्तेमाल करें और सप्ताह में कम से कम एक बार शैंपू का प्रयोग करें। बालों का धोते समय ध्यान रखें कि सिर से पानी चेहरे पर न गिरे क्योंकि यह मुहासों का कारण बन सकता है।
    डैंड्रफ के कुछ घरेलू उपचारः- छह चम्मच पानी में दो चम्मच शुद्ध सिरका मिला लें और सोने से पहले रूई से सिर की त्वचा में लगा लें। तकिये को गंदा होने से बचाने के लिए सिर पर तौलिया बांध कर लेटें। दूसरी सुबह शैंपू करने के बाद एक बार फिर सिरके से बाल धोएं। यह प्रक्रिया सप्ताह में एक बार तीन महीने तक लगातार करें।
  •  मेथी के बीज डैंड्रफ, बालों को गिरने गंजेपन और बालों को लंबे, काले और घने बनाने में बहुत लाभदायक होते हैं। मेथी के बीज को पानी में भिगो कर रात भर रखें। सुबह इसे पीस कर पेस्ट बना लें। बाल धाने के पहले आधे घंटे तक इस पेस्ट को सिर की त्वचा पर लगाएं। आधे घंटे बाद बालों में शैंपू कर लें।
    डैंड्रफ में उपयोगी मसाज :- गर्म नारियल या कैस्टर के तेल से सप्ताह में दो बार सिर की त्वचा पर अच्छी तरह मसाज करें।
  •  अपनी उंगलियों से पोरों से कम से कम आधे घंटे तक गोलाकार गति से मसाज करें।
  •  अगली सुबह शैंपू कर लें।
  •  इस तरह की मसाज से सिर में रक्त प्रवाह तेज होता है। फलस्वरूप बाल रूखे नहीं होते और इनकी जड़े मजबूत होती है। डैंड्रफ के नियंत्रण के लिए यह काफी लाभप्रद होता है।
    डैंड्रफ में उपयोगी, अंडे का पैकः- दो कच्चे अंडे में दो छोटे चम्मच पानी मिला लें। बालों को गीला करके इस मिश्रण को बालों पर लगाएं। अब सिर पर मसाज करते हुए दस से पंद्रह मिनट तक छोंड़ दें। इसके बाद हल्के गुनगुने पानी से बालों को धो लें। यह आपको डैंड्रफ और बाल झड़ने, दोनों समस्याओं से दूर रखेगा।