कैसे करें शिशु की देखभाल

नवजात शिशुओं की देखभाल सही ढंग से करना माताओं के लिए एक समस्या बन जाती है। थोड़ी सी चूक अथवा अज्ञानता के कारण बड़ी मुश्किल का भी सामना करना पड़ सकता है। पहले ऐसा होता था कि घर की बड़ी बूढ़ी महिलाए इन बच्चों की देखभाल में काफी ध्यान रखती थी, लेकिन आधुनिक शहरी परिवेश में जहां परिवार का दायरा काफी छोटा हो गया है। पति पत्नी को ही घर से बाहर तक की जिम्मेदारी निभानी पड़ रही है। ऐसे में दंपत्तियों के लिए पेश है बच्चों की देखभाल के कुछ उपयोगी टिप्सः

  • बच्चों की मालिश के लिए नारियल तेल मे एक बादाम गिरी डालकर गर्म करे। ठंडा होने पर इसे छान लें। इस तेल की मालिश करने से
  • बच्चों की त्वचा मुलायम व चमकदार बनती है। इस तेल ाक सेवन किसी भी मौसम मे किया जा सकता है।
  • एक नारंगी का रस प्रतिदिन पिलाने से नवजात शिशु का रंग साफ होता है तथा हृष्ट पुष्ट एवं गोलाकार शरीर बनता है।
  • नन्हें शिशु को हृष्ट पुष्ट बनाने के लिए छिलका सहित आलू धोकर महीन काट लें। इसका रस सनिकालकर दूध या शहद के साथ दिन में दो
  • बार चटाने से शिशु कुछ ही दिनों में हृष्ट पुष्ट हो जायेगा।
  • गाय के दूध से बने घी से सिर पर मालिश करने से बच्चों की बुद्धि का विकास होता है।
  • चावल का मांड नमक के साथ मिलकर पिलाने से बच्चों का ताकत मिलती है।
  • दुर्बल बच्चों को मिश्री पीसकर घी में मिलाकर एक चम्मच सुबह शाम चटाने से बच्चा हृष्ट पुष्ट होता है। साथ ही उसकी शक्ति बढ़ती है।
  • बड़े बच्चों को सौफ का चुर्ण शहद के साथ् देने से उसकी स्मरण शक्ति का विकास होता है।
  • नन्हें बच्चो को प्रतिदिन शहद चटाने से वह तंदुरूस्त होता है। साथ ही दांत निकलने में आसानी होती है।
  • बच्चों को स्नान के जल में थोड़ा नमक डालने से त्वचा की बीमारियों से बचाव होता है।
  • बच्चों को सदैव मुलायम व आरामदायक कपड़े पहनाएं। बिना धोये व सुखये किसी दूसरे बच्चो का कपड़ा नही पहनायें।
  • कच्ची हल्दी को गुड़ में मिलकर खिलाने से बच्चो के पेट में कीड़े नष्ट हो जाते है।

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *