विवाह से पहले लड़कियां क्या जानना चाहती हैं

आप मानें या न मानें हमने देखा है कि स्त्री के शरीर की गंध पति को बर्दाश्त नहीं हुई और आगे चलकर तलाक हो गया। शारीरिक गंध मन में प्यार लाती है। इसलिए हम हमेशा स्त्री को यही कहते हैं कि फूलों की खुशबू वाला इत्र हमेशा व्यवहार करें। बदन से आने वाली खुशनुमा महक दिल को जीत लेती है। रात में सोने से पहले स्नान करना अच्छा रहता है। खूश्बूदार साबुन का भी प्रयोग करें। बालों से भी दुर्गंध न आने दें।
विवाह के पहले घबराना स्वाभाविक है। मां-बाप बेटी का विवाह तो तय कर देते है पर शादी को कैसे निभाना है यह जानकारी नहीं देते।
यह बात स्वभाविक है क्योंकि यौन-विषय पर चर्चा करना साधारण बात नहीं हैं। कुछ उपयोगी बातों का हम जिक्र कर रहे हैः-
क्या मेरे वह मुझे पसंद करेंगेः- अवश्य आपके अंदर आत्मविश्वास होना चाहिए और होनी चाहिए आत्मसमर्पण की भावना। आप पति को पास आने से न रोकें और न ही पास जाने से कतराएं। पति जैसे ही आपके शरीर को छुएगा, उसके शरीर में अपने आप तड़प महसूस होगी। इस तड़प को ही यौन भावना कहते हैं। उसके मन में आपके प्रति प्यार उमड़ पड़ेगा और वह आपकी ओर आकर्षित हो जाएगा।
क्या वह मुझे मन से प्यार करेंगेः- मन में प्यार की भावना में शरीर की सुगंध या दुर्गंध बहुत महत्त्व रखते हैं। आप मानें या न मानें हमने देखा है कि स्त्री के शरीर की गंध पति को बर्दाश्त नहीं हुई और आगे चलकर तलाक हो गया। शारीरिक गंध मन में प्यार लाती है। इसलिए हम हमेशा स्त्री को यही कहते हैं कि फूलों की खुशबू वाला इत्र हमेशा व्यवहार करें। बदन से आने वाली खुशनुमा महक दिल को जीत लेती है। रात में सोने से पहले स्नान करना अच्छा रहता है। खूश्बूदार साबुन का भी प्रयोग करें। बालों से भी दुर्गंध न आने दें।
पहली रात में मुझे क्या करना चाहिएः- शरीर की महक पर ध्यान रखें। उत्तेजक नाइटी पहनें। पति से खुलकर बात चीत करें। उन्हें अपने बारे में बताएं और उनके विचारों को जानें। इसके बाद ही चुंबन आदि की पहल करें। बिना वार्तालाप के सहवास न करें। पहली रात एक तरीके से परिचय की रात होती है। उनको सही तरीके से समझने का प्रयत्न करें। जब पति-पत्नी एक दूसरे को समझ कर सहवास करतें हैं तो संबंध मधुर बनते हैं।
अगर पहली रात में मेरा मासिक धर्म हो तोः- यह बात उन्हें बताएं मासिक काल में भी मासिक काल संभव है। असल में लड़कियों को यह अटपटा सा लगता है। अधिकतर लोग ऐसी दशा में भी सहवास करते हैं और आनंदित होते हैं। वहीं करें जो आप दोनों का मन हो।
क्या मै उन्हें संतुष्ट कर पाउंगीः- सब लड़कियां सोचती है कि पति को हर वक्त सहवास की जरूरत है और उनकी इच्छा कभी मिटती नहीं है। ऐसी बात नहीं है लड़को की इच्छा कभी ज्यादा कभी कम रहती है। हर वक्त एक समान काम वासना नहीं रहती। वीर्यपान के बाद आदमी अपने आप संतुष्ट हो जाता है।
अगर मुझे कष्ट हो तोः- सहवास के समय यदि किसी प्रकार का आपको कष्ट हो तो तुरंत उन्हें बताएं। अगर आप उन्हें नहीं बताएंगी तो उन्हे लगेगा कि सब ठीक है। सहवास के समय क्या आपको अच्छा लग रहा है क्या नहीं इसकी जानकारी उन्हें जरूर दें। इससे आपके संबंधों में निखार आता है।
क्या मुझे पूरा सुख प्राप्त होगाः- पूर्ण तृप्ति प्रथम सहवास से नहीं मिलती। मन में अच्छा बहुत लगता है। पति के सहवास करने की तकनीक पर भी निर्भर होता है। सहवास करते-करते पूर्ण संतुष्टि प्राप्त होती है। कई महिलाओं को यह सुख नहीं भी मिल पाता। यह सुख प्राप्त करने की क्षमता आपमें है या नहीं, यह तो बाद में ही पता चलेगा।

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *